राम मंदिर

22 जनवरी, 2024 को अयोध्‍या के राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हो रही है। राम मंदिर का प्रथम तल बनकर तैयार है और अगले दो सालों में पूरा भव्य मंदिर बना लेने की योजना है। इस मंदिर के निर्माण के लिए देश की विभिन्न आदालतों में लंबी लड़ाई चली है। वर्ष 1526 में मुगल बादशाह बाबर के हिन्दुस्तान आने के दो साल बाद उसके सूबेदार मीरबाकी ने राम जन्मभमि में मस्जिद बनवाई। 19वीं सदी में मुगलों का शासन कमजोर पड़ गया और देश में अंग्रेजी हुकूमत मजबूत हो चुकी थी। इसी कालखंड में हिंदुओं ने यह मामला उठाया कि भगवान राम के जन्मस्थान मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनाई गई थी। इसके बाद से रामलला के जन्मस्थल को वापस पाने की कानूनी लड़ाई शुरू हुई। 1859 में ब्रिटिश शासकों ने विवादित स्थल पर बाड़ लगा दी। परिसर के भीतरी हिस्से में मुसलमानों को और बाहरी हिस्से में हिंदुओं को प्रार्थना करने की अनुमति मिली। वर्ष 1885 में इस विवाद में पहला मामला दर्ज हुआ, जिसका पटाक्षेप 134 सालों बाद 9 नवंबर 2019 को सु्प्रीम कोर्ट के फैसले से हुआ। पांच जजों की बेंच ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया। 2.77 एकड़ विवादित जमीन हिंदू पक्ष को मिली। मस्जिद के लिए अलग से 5 एकड़ जमीन मुहैया कराने का आदेश दिया गया। 5 अगस्त 2020 को भूमि पूजन के साथ राम मंदिर का निर्मणा शुरू हुआ। ढाई साल में मंदिर का पहले तल बनकर तैयार हो चुका है और इसके गर्भ गृह में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की जा रही है। इस समारोह में साढ़े छह हजार से ज्यादा विशिष्ट मेहमानों को शामिल होने का निमंत्रण भेजा गया है। राम मंदिर तीन मंजिला होगा और पूरी तरह से तैयार होने के बाद यह पूर्व से पश्चिम दिशा में 380 फीट लंबा, 235 फीट चौड़ा और 161 फीट ऊंचा होगा। मंदिर की प्रत्येक मंजिल 20 फीट ऊंची होगी। इसमें कुल 392 स्तंभ होंगे और 44 द्वार होंगे। भूतल से गर्भ गृह के शिखर की ऊंचाई 161 फीट होगी।और पढ़ें

राम जन्मभूमि का इतिहास

  • 2024

    22 जनवरी को रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा।

  • 2020

    तकरीबन 28 साल बाद रामलला टेंट से निकलकर 25 मार्च को फाइबर के मंदिर में शिफ्ट हुए। 5 अगस्त को राम मंदिर का भूमि पूजन कार्यक्रम हुआ।

  • 2019

    6 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई शुरू हुई और यह 40 दिनों तक चली। 9 नवंबर को पांच जजों की बेंच ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया। 2.77 एकड़ विवादित जमीन हिंदू पक्ष को मिली। मस्जिद के लिए अलग से 5 एकड़ जमीन मुहैया कराने का आदेश।

  • 2018

    सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्‍या विवाद पर होने वाली सुनवाई जनवरी 2019 तक टाल दी।

  • 2017

    मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने आपसी सहमति से विवाद सुलझाने का सुझाव दिया। तत्कालीन चीफ जस्टिस जे एस खेहर ने कहा है कि अगर दोनों पक्ष राजी हो तो वह कोर्ट के बाहर मध्यस्थता करने को तैयार हैं।

  • 2011

    इस फैसले के खिलाफ 14 अपील दाखिल हुईं। इन याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी।

  • 2010

    इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित भूमि को सुन्नी वक्फ बोर्ड, रामलला विराजमान और निर्मोही अखाड़ा के बीच तीन बराबर हिस्सों में बांटने का आदेश दिया।

  • 1992

    6 दिसंबर को वीएचपी, बीजेपी और शिवसेना समेत कई हिंदू संगठनो के कार्यकर्ताओं ने विवादित ढांचे को गिरा दिया। इसके बाद देशभर में हिंदू और मुसलमानों के बीच सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे, जिसमें 2000 से ज्यादा लोग मारे गए।

  • 1990

    अयोध्या में पहली बार कारसेवा हुई, पुलिस फायरिंग में पांच कारसेवकों की मौत हो गई। राम मंदिर निर्माण के अभियान को तेज करने के लिए लाल कृष्ण आडवाणी ने सोमनाथ से अयोध्या के लिए रथ यात्रा शुरू की।

  • 1989

    वीएचपी ने राम मंदिर निर्माण के लिए अभियान तेज किया और विवादित स्थल के पास राम मंदिर की नींव रखी गई। मुकदमे इलाहाबाद हाई कोर्ट शिफ्ट हो गए।

  • 1986

    जिला मजिस्ट्रेट ने हिंदुओं को प्रार्थना करने के लिए विवादित मस्जिद के दरवाजे खोलने का आदेश दिया। मुसलमानों ने विरोध में बाबरी मस्जिद संघर्ष समिति का गठन किया।

  • 1984

    विश्व हिंदू परिषद के नेतृत्व में राम मंदिर आंदोलन की शुरुआत। इस अभियान में लालकृष्ण आडवाणी जैसे दिग्गज भाजपा नेता भी शामिल हो गए।

  • 1961

    यूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड ने विवादित भूमि पर अधिकार मांगा और मूर्तियों को हटाने की मांग की।

  • 1959

    तीसरे पक्ष की एंट्री हुई। निर्मोही अखाड़े ने जमीन का अधिकार मांगा।

  • 1950

    फैजाबाद के सिविल कोर्ट में हिंदू पक्ष ने रामलला की पूजा की इजाजत के लिए दो अर्जियां दाखिल कीं। कोर्ट ने पूजा की इजाजत दे दी पर भीतरी दरवाजा बंद ही रखने के निर्देश दिए।

  • 1949

    भगवान राम की मूर्तियां मस्जिद में पाई गईं। मुसलमानों ने इस पर विरोध व्यक्त किया और दोनों पक्षों ने मुकदमा दायर कर दिया। इसके बाद सरकार ने इसे विवादित ढांचा घोषित कर ताला लगा दिया।

  • 1885

    महंत रघुबीर दास ने मस्जिद से सटी जमीन पर मंदिर बनाने की मांग करते हुए मामले में पहला मुकदमा दायर किया। फैजाबाद कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी।

  • 1859

    ब्रिटिश शासकों ने विवादित स्थल पर बाड़ लगा दी। परिसर के भीतरी हिस्से में मुसलमानों को और बाहरी हिस्से में हिंदुओं को प्रार्थना करने की अनुमति मिली।

  • 1853

    श्रीराम जन्म भूमि पर जहां मस्जिद बनवाई गई थी, वहां आसपास के कई स्थानों पर पहली बार सांप्रदायिक दंगे हुए

  • 1528

    अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर मीर बाकी ने मस्जिद का निर्माण करवाया। तत्कालीन मुगल सम्राट के नाम पर इसका नाम बाबरी मस्जिद रखा गया।

  • ;

कैसा होगा राम मंदिर

  • दान: 1800 करोड़ की लागत से बनेगा मंदिर, अब तक 3200 करोड़ दान आ चुके हैं
  • मजबूती: 1000 साल तक सुरक्षित रहेगा मंदिर,8 तीव्रता वाला भूकंप झेलने की क्षमता
  • मंदिर: परकोटा के चारों कोनों पर सूर्यदेव, मां भगवती, गणपति और शिव का मंदिर
  • सुविधा: 25000 की क्षमता वाले एक दर्शनार्थी सुविधा केंद्र
  • भव्य मंदिर: 70 एकड़ क्षेत्रफल होगा परिसर, 3 एकड़ से अधिक में मंदिर
  • ऊंचाई: 161 फीट मंदिर के शिखर की ऊंचाई, 20 फीट के तीन तल
  • दरवाजे: 392 खंभे और 44 द्वार होंगे मंदिर में, 14 दरवाजे स्वर्ण जड़ित
  • सीढ़ियां: 16 फीट है सीढ़ियों की चौड़ाई, 32 सीढ़ियां चढ़कर सिंहद्वार में प्रवेश
  • गर्भगृह: 8 कोणीय होगा गर्भगृह, भगवान विष्णु के 8 अवतारों का प्रतीक

तस्वीरों में अयोध्या

और पढ़ें

प्राण प्रतिष्ठा से पहले जगमग हुई अयोध्या, फूलों और रंगीन लाइटों से रोशन हुआ राम मंदिर, देखें फोटो

28 साल टेंट में रहे रामलला भी पहुंचे राममंदिर, तीन दिन अनुष्ठान के साक्षी बनेंगे, देखिए फोटो

Ram Lalla Idol Photos: अयोध्या राम मंदिर से रामलला का नया फोटो आया, पूरी छवि दिख गई

अयोध्या में जन्मभूमि पर कमलदल पर विराजमान हुए रामलला, पहली तस्वीर भी आई सामने

अयोध्या राममंदिर के सिंहद्वार पर हनुमान और गरुण देव, पूर्वी पर सिंह और गज स्थापित, देखिए नई तस्वीरें

जब अचानक दलित महिला के घर पहुंच गए पीएम मोदी, पी चाय, देखिए तस्वीरें

अयोध्या में कहां-कहां जाएं

ऐसे पहुंचें अयोध्या

  • ट्रेन से

    अयोध्या स्टेशन से करीब 50 से अधिक नियमित ट्रेनें गुजरती हैं। इस वजह से अयोध्या देश के कई शहरों से पहले से ही रेल के माध्यम से कनेक्टेड है। रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद अयोध्या में जुटने वाली भीड़ को देखते हुए रेलवे 19 जनवरी से अगले 100 दिनों में 1000 ट्रेनें चलाएगा। ट्रेन यात्रियों की सुविधा के लिए अयोध्या धाम जंक्शन को 240 करोड़ की लागत से नए सिरे से बनाया गया है। अनुमान है कि आने वाले दिनों में करीब 50 हजार लोग रोजाना ट्रेनों के जरिए अयोध्या पहुंचेंगे।

  • फ्लाइट से

    रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से पहले अयोध्या के लिए एयर सर्विस शुरू हो चुकी है। 30 दिसंबर 2023 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महर्षि वाल्मीकि एयरपोर्ट का उद्घाटन किया। इसके बाद दिल्ली, मुंबई और अहमदाबाद से अयोध्या के लिए फ्लाइट शुरू हो चुकी है। अगले दो सालों में अयोध्या के लिए देश के 80 बड़े शहरों से सीधी उड़ान सेवा शुरू करने की योजना है। महर्षि वाल्मीकि एयरपोर्ट के अलावा लखनऊ, गोरखपुर और वाराणसी एयरपोर्ट भी अयोध्या से 200 किलोमीटर के दायरे में ही हैं। इसलिए इन शहरों के लिए भी फ्लाइट लेकर अयोध्या पहुंचा जा सकता है।

  • बस से

    यूपी के सभी बड़े शहरों से पहले से ही रोडवेज की बसों के जरिए अयोध्या पहुंचा जा सकता है। दिल्ली से भी अयोध्या के लिए सीधी बस सेवा है। शहर में दो बस अड्डे हैं, लेकिन बसें फिलहाल पुराने बस स्टॉप से ही चल रही हैं। नया बस अड्डा भी जल्द ही शुरू होने वाला है।

राम मंदिर से जुड़े सवाल-जवाब

  • अयोध्या जाने के लिए सबसे सही समय क्या है?

    अयोध्या तीर्थ स्थान है, तो यहां श्रद्धाभाव से आप कभी भी जा सकते हैं और इसके लिए किसी खास समय या सीजन के इंतजार की जरूरत नहीं है। फिर भी अयोध्या की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए अक्टूबर से लेकर मार्च का महीना मौसम के लिहाज से यहां जाने के लिए सबसे उचित होगा। गर्मी कम होती है तो यात्रा करना आरामदायक होता है। दिवाली के समय में अयोध्या का दीपोत्सव देखने लायक होता है। शहर में सरयू के घाटों पर लाखों दीये जलाए जाते हैं। राम की नगरी होने की वजह से रामनवमी के समय पूर शहर भक्ति और उत्साह से भरा होता है। श्रावण मास में अयोध्या जाना अच्छा रहेगा। वर्षा ऋतु में घूमने में थोड़ी असुविधा हो सकती है लेकिन श्रावण के महीने में यहां विभिन्न धार्मिक आयोजन होते हैं। इस समय अयोध्या की हरियाली और सरयू नदी का दृश्य बहुत सुंदर होता है।

  • राम मंदिर और रामलाला के अलावा क्या-क्या देखें?

    राम मंदिर अभी बनकर तैयार नहीं हुआ है, बनने के बाद अयोध्या का सबसे बड़ा आकर्षण राम मंदिर होने वाला है। अभी रामलला के दर्शन के अलावा आप हनुमान गढ़ी, राम की पैड़ी, सीता रसोई, दशरथ महल, तुलसी स्मारक भवन, गुप्तार घाट, कनक महल, नागेश्वरनाथ मंदिर, मणि पर्वत, मत्तगजेंद्र, सप्तसागर तीर्थ, देवकाली, सूर्यकुंड, सहस्त्रधारा, श्रीलक्ष्मण मंदिर आदि जा सकते हैं।

  • ट्रेन, प्लेन और रोड से अयोध्या कैसे पहुंचे?

    अयोध्या पहुंचने के लिए सड़क, हवाई और ट्रेन तीनों साधन उपलब्ध हैं। अभी अयोध्या एयरपोर्ट से दिल्ली और अहमदाबाद से ही उड़ान सेवा उपलब्ध है। आने वाले दिनों में और शहरों से भी अयोध्या के लिए फ्लाइट्स शुरू होने की उम्मीद है। लखनऊ अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा अयोध्या से 152 किलोमीटर दूर है। अयोध्या गोरखपुर हवाई अड्डे से लगभग 158 किलोमीटर, प्रयागराज हवाई अड्डे से 172 किलोमीटर और वाराणसी हवाई अड्डे से 224 किलोमीटर दूर है। ट्रेन रूट्स की बात करें तो अयोध्या देश के सभी प्रमुख महानगरों से जुड़ा है। उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की सेवा भी अयोध्या के लिए 24 घंटे उपलब्ध है। इसके अलावा प्राइवेट बस ऑपरेटर्स की सर्विस है अयोध्या के लिए।

  • अयोध्या स्टेशन से राम मंदिर की दूरी कितनी है?

    अयोध्या में दो रेलवे स्टेशन हैं- अयोध्या धाम जंक्शन और अयोध्या कैंट रेलवे स्टेशन। अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से राम मंदिर तक की दूरी लगभग एक किलोमीटर है। आप चाहें तो अयोध्या धाम जंक्शन रेलवे स्टेशन से बिरला धर्मशाला होते हुए 15 मिनट में पैदल राम मंदिर तक जा सकते हैं। ई-रिक्शा का किराया प्रति पैसेंजर 10 रुपये है। इस दौरान रास्ते में चारों तरफ आपको रामायण कालीन दृश्य नजर आएंगे। अयोध्या कैंट रेलवे स्टेशन से राम मंदिर की दूरी लगभग 12 किलोमीटर है। श्रद्धालुओं को रामपथ पर इलेक्ट्रिक बस भी मिल जाएगी, जो मंदिर के सामने से गुजरेगी।

  • बस अड्डे और एयरपोर्ट से राम मंदिर की दूरी कितनी है?

    अयोध्या बस अड्डे से राम मंदिर की दूरी 3 किलोमीटर और महर्षि वाल्मीकि एयरपोर्ट से 7 किलोमीटर है। बस अड्डे से ऑटो और ई-रिक्‍शा वाले प्रति पैसेंजर 20 रुपये किराया लेंगे। रिजर्व ऑटो वाले आपसे 80 से 100 रुपये तक ले सकते हैं। अयोध्या में टाटा की 12 इलेक्ट्रिक कारों को ईवी प्लस ऐप के जरिये बुक किया जा सकेगा। अयोध्या विकास प्राधिकारण की तरफ से राम पथ से गुप्तार घाट,नयाघाट औरभरतकुंड के लिए 38 इलेक्ट्रिक बस चलाने की भी योजना है।

  • राम मंदिर पूरी तरह से कब तक तैयार हो पाएगा?

    पूर्ण रूप से तैयार राम मंदिर में तीन तल, एक मुख्य शिखर और पांच उप-शिखर होंगे। 22 जनवरी को मंदिर के भूतल में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होनी है। भूतल का काम 22 जनवरी से पहले पूरी तरह से खत्म कर लेने की योजना है। अगले दो सालों में यानी जनवरी 2025 तक राम मंदिर के तीनों तल का निर्माण पूर्ण हो जाने की उम्मीद है। मुख्य शिखर 161 फीट ऊंचा होगा तो इसे सबसे अंत में बनाया जाएगा। 360 फीट लंबे और 250 फीट चौड़े मंदिर में कुल 392 स्तंभ होंगे।

  • रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का समय क्या है?

    रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए 84 सेकंड का शुभ मुहूर्त निकाला गया है। यह 22 जनवरी 2024 को 12 बजकर 29 मिनट 8 सेकंड से 12 बजकर 30 मिनट 32 सेकंड तक होगा। राम मंदिर में आरती तीन टाइम की जाएगी, जिसका समय सुबह 6:30 बजे, दोपहर 12:00 बजे और शाम 7:30 बजे होगा।

  • राम मंदिर परिसर में और क्या-क्या है?

    राम मंदिर परिसर में चारों कोनों पर चार मंदिर होंगे। ये सूर्य देव, देवी भगवती, गणेश भगवान और भगवान शिव को समर्पित होंगे। उत्तरी भुजा में मां अन्नपूर्णा का मंदिर और दक्षिणी भुजा में हनुमान जी का मंदिर है। राम मंदिर में प्रवेश पूर्व दिशा से है, सिंह द्वार से 32 सीढ़ियां चढ़कर मंदिर में प्रवेश होगा। दिव्यांगों और बुजुर्गों की सुविधा के लिए रैंप और लिफ्ट की व्यवस्था होगी।

zz link: zz